Commercial Vehicle Insurance | Buy Taxi, Truck, Auto Insurance in Hindi

यह मोटर इन्शुरन्स पॉलिसी व्यवसाय में प्रयोग होने वाले वाहनों के लिए है और इसे अपने अनुरूप कस्टमाइज किया जा सकता है। Commercial Vehicle Insurance कमर्शियल वाहनों को या उनकी वजह से होने वाले किसी भी नुकसान और घाटे की भरपाई करता है। इसमें वाहनों को किसी दुर्घटना, तोड़फोड़, प्राकृतिक कारणों तथा आग से होने वाले नुकसान शामिल है। सभी व्यापारों के लिए अपने सभी तरह के कमर्शियल वाहन जैसे कि ऑटो रिक्शा, कैब, स्कूल बस और ट्रक के लिए कमर्शियल वाहन इंश्योरेंस होता है।

कमर्शियल बीमा या बिज़नस बीमा एक प्रकार का है जो किसी भी व्यवसाय से संबंधित जोखिमों को सुरक्षा (कवर) प्रदान करता है। व्यवसायों को विभिन्न व्यावसायिक जोखिमों से आर्थिक मदद करने में बाज़ार में कई कमर्शियल बीमा पॉलिसी उपलब्ध है। यह बीमा किसी दुकान, मॉल, कारखाने, गोदाम या वाहन के लिए हो सकता है।

Commercial Insurance क्या है?

कमर्शियल बीमा व्यवसायों को किसी भी अचानक होने वाले नुकसान से सुरक्षा प्रदान करता है। कमर्शियल बीमा पॉलिसियों में  दुकानदारों का बीमा , वेयरहाउस बीमा, ट्रांजिट बीमा, प्रोडक्ट और पब्लिक लायबिलिटी बीमा, कर्मचारी लायबिलिटी बीमा, मैरिन बीमा, संपत्ति बीमा आदि है। ये पॉलिसी किसी भी समस्या के मामले में व्यवसाय के मालिकों को  सुरक्षा प्रदान करती हैं।

आपको कमर्शियल व्हीकल इन्शुरन्स की जरूरत क्यों है?

  • अगर आप अपने व्यवसाय में कमर्शियल वाहनों को खरीदकर प्रयोग कर रहे हैं, तो आपके लिए एक ऐसा कमर्शियल वाहन इन्शुरन्स खरीदना जरूरी है जो कि आपके व्यापार को वाहन के कारण और वाहन चलाने वाले लोगों के कारण होने वाले होने वाले आर्थिक नुकसान और घाटे की भरपाई कर सके।
  • अगर आपका मुख्य बिजनेस ही वाहनों से जुड़ा हुआ है, जैसे कि आप टैक्सी सर्विस देते हैं या प्राइवेट स्कूल बस चलाते हैं, तो कमर्शियल व्हीकल इन्शुरन्स प्लान किसी अनहोनी के समय आपके आर्थिक नुकसान को कवर करने के साथ ही उसमें बैठे लोगों और उस व्यापार में पैसा लगाने वालों को भी होने वाले नुकसान का कवर करता है।
  • कानूनी नियमों के अनुसार सभी कमर्शियल वाहन मालिकों के पास प्रत्येक कमर्शियल वाहन के लिए कम से कम एक थर्ड-पार्टी लाएबिलिटी-ओनली पालिसी तो होनी ही चाहिए, जो की उनके द्वारा किसी भी थर्ड पार्टी को होने वाले नुकसान कि भरपाई कर सके |

कमर्शियल बीमा के प्रकार

भारत में कई प्रकार के कमर्शियल बीमा उपलब्ध है, जो व्यवसायों को कई जोखिमों से सुरक्षित रखते हैं।

1.दुकानदार बीमा: दुकानदार बीमा पॉलिसी किराना, कपड़े बेचने वाले, छोटे रेस्टोरेंट, मिठाई की दुकान आदि काम करने वाले रिटेल्स दुकानदारों के लिए एक आदर्श विकल्प है। यह पॉलिसी छोटे या मध्यम आकार के दुकान मालिकों द्वारा सामना किए जाने वाले सभी जोखिमों और आकस्मिक खर्च को कवर करती है। यह निम्नलिखित मुद्दों से संबंधित नुकसान को कवर करता है:

  • आग और संबद्ध संकट
  • चोरी
  • मशीनरी का टूटना
  • गंभीर दुर्घटना
Commercial Vehicle Insurance
Commercial Vehicle Insurance

2.ट्रांजिट बीमा: 

 जब बहुमूल्य  व्यावसायिक वस्तुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया जाता है, तो इस दौरान किसी भी नुकसान से बचने के लिए ट्रांजिट बीमा कराया जाता है। उदाहरण के लिए, सप्लायर के कारखाने से लेकर रिटेल आउटलेट तक, खेप के नुकसान के कारण किसी भी हानि को ट्रांजिट बीमा कवर करता है। ट्रांजिट बीमा पॉलिसी लेने की ज़िम्मेदारी बिक्री कॉन्ट्रेक्ट में निर्धारित की जानी चाहिए और सप्लायर के परिसर से बाहर जाने से पहले बीमा ले लिया जाना चाहिए। ट्रांजिट बीमा केवल भूमि पर पहुँचाए गए माल पर लागू होता है। नीचे दिए गिए निम्नलिखित सामान ट्रांजिट बीमा के अंतर्गत आते हैं:

  • पैकेजिंग सामग्री
  • बनाया गया सामान
  • कच्चामाल

3.कमर्शियल वाहन बीमावे वाहन मालिक जो यात्रियों या सामान परिवहन के व्यवसाय में हैं, उन्हें कमर्शियल वाहन बीमा लेना चाहिए। यह बीमा  कमर्शियल वाहन को कई तरह के बाहरी नुकसान से बचाता है। कमर्शियल वाहन बीमा की कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं:

  • वाहन के इस्तेमाल सेहोने वाली मौत या शारीरिक चोट।
  • वाहन के इस्तेमाल के कारण संपत्ति को कोई नुकसान।

4.लायबिलिटी बीमा : यह पॉलिसी व्यवसायों और व्यक्तियों को जोखिम से सुरक्षा प्रदान करती है, जिससे उन्हें कानूनी रूप से और उत्तरदायी ठहराया जा सकता है। उदाहरण के लिए, कारखाने के मालिक को उन कर्मचारियों से लायबिलिटी के दावे का सामना करना पड़ सकता है, जिन्हें कारखाने में बिजली का झटका लगने से नुकसान हो जाता है।  कर्मचारी लायबिलिटी बीमा ऐसी स्थिति में कानूनी खर्च के साथ-साथ उपचार खर्च को भी संभाल सकता है।

5.वेयरहाउस बीमा:

 वे व्यवसाय जिनमें अधिकांश कार्य कई गोदामों में होते हैं, वह वेयरहाउस बीमा खरीदने पर विचार कर सकते हैं। इसमें प्राकृतिक आपदा, आग और इसी तरह की अप्रत्याशित परिस्थितियां शामिल हैं। इसके अलावा, आप चोरी और चोरी खतरों के खिलाफ मुआवजा प्राप्त कर सकते हैं।

6.मैरिन बीमा : जब सामान समुद्र के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय स्थानों पर भेजा जाता है, तो यह रेल, सड़क, पानी और शायद वायुमार्ग से भी यात्रा करता है। अंतिम स्थान तक पहुंचने से पहले सामान कई हाथों से होकर निकालता है। जहाज़ के मूल ढांचे और मशीनरी की सुरक्षा के लिए जहाज़ मालिक हल और मशीनरी बीमा लेते हैं। कार्गो मालिक ट्रांजिट के तहत सामान की सुरक्षा के लिए समुद्री कार्गो बीमा लेते हैं। मैरिन बीमा पॉलिसी विशिष्ट समय-सीमा या यात्रा या दोनों को कवर कर सकती है। Commercial Vehicle Insurance

You May Also Like Axis Bank Neo Credit Card Kya Hai

Commercial Vehicle Insurance

7.ऑफिस पैकेज बीमा:

इस तरह का बीमा किसी के ऑफिस और छत के नीचे मौजूद इंफ्रास्ट्रक्चर समेत सभी चीज़ों की सुरक्षा करता है। यह आग, चोरी, भूकंप, आदि के कारण किसी भी क्षति के मामले में ऑफिस को सुरक्षा देता है। Commercial Vehicle Insurance यह व्यक्तिगत दुर्घटना कवरेज भी प्रदान करता है। पॉलिसी में शामिल किए गए सभी बिंदुओं को समझना चाहिए। बता दें, कि  पॉलिसी अवैध गतिविधि या युद्ध जैसी स्थिति के कारण उत्पन्न होने वाली किसी भी समस्या को कवर नहीं करती है।

कमर्शियल बीमा कवर क्या है?

कई कमर्शियल बीमा हैं जो अलग-अलग मामलों या स्तिथियों के लिए अलग-अलग कवरेज प्रदान करते हैं। आइए विभिन्न बीमा कंपनियों द्वारा प्रदान किए गए कुछ प्रकार के कवरेज को समझते हैं ।

  • होम इंश्योरेंस,घर और उसके स्ट्रक्चर को कवर करता है।
  • ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस,अस्पताल में भर्ती के दौरान मेडिकल खर्चों को कवर करता है
  • लायबिलिटी बीमा आपके व्यवसाय, पेशे या वाहन के कारण मुकदमों और व्यक्ति या संपत्ति को अन्य नुकसान के खर्च को कवर करता है।
  • परिवहन बीमा परिवहन के दौरान किसी भी कार्गो को नुकसान या क्षति के लिए कवरेज प्रदान करता है।

Types Of Commercial Vehicle Insurance

यात्री ले जाने वाले वाहनों का इन्शुरन्स

  • यह बीमा विशेषकर उन वाहनों के लिए उचित है जो कि एक या एक से अधिक यात्री लाते या ले जाते हैं जैसे कि टैक्सी, ऑटो रिक्शा, स्कूल बस और प्राइवेट बस इत्यादि।
  • यात्री ढोने वाले वाहन, खासतौर पर स्कूल बस और रेगुलर कैब जो कि रोजाना बहुत से यात्रियों को ढोते हैं।
  • भारत की जनसंख्या के एक अहम भाग का जीवन व आय इन्हीं वाहनों पर निर्भर करता है। ऐसे में कमर्शियल व्हीकल इन्शुरन्स इन वाहनों के साथ किस भी अनहोनी होने की स्थिति में इससे होने वाले नुकसान और घाटे की आर्थिक भरपाई करने का काम करता है।

सामान ढोने वाले वाहनों का इन्शुरन्स

  • यह बीमा ऐसे वाहनों के लिए है जो एक स्थान से दूसरे स्थान तक सामान ढोकर ले जाते हैं; इसमें मुख्य रूप से ट्रक, टैम्पो व लॉरी आते हैं।
  • सामान ढोने वाले वाहन अक्सर आकार में काफी बड़े होते हैं; और इनके दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना भी अधिक होती है; एक Commercial Vehicle Insurance; ना सिर्फ़ इन वाहनों की वज़ह से किसी दूसरे व्यक्ति को होने वाले नुकसान की भरपाई करता है बल्कि; किसी दुर्घटना या प्राकृतिक कारणों से वाहन को होने वाली क्षति के समय वाहन के मालिक-ड्राइवर; तथा वाहन को भी सुरक्षित करने का काम करता है। 
  • अगर आपका व्यापार ट्रकों के माध्यम से सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचाने का है; तो फिर कमर्शियल व्हीकल इन्शुरन्स; आपके वाहन में लदे सामान को भी किसी भी दुर्घटना, आग या प्राकृतिक आपदा; आदि से होने वाली क्षति के बदले में आर्थिक लाभ देता है।

Also Read Salary Par Loan Kaise Lein

अन्य और विशेष वाहनों के लिए इन्शुरन्स

  • कैब, टैक्सी, ट्रक और बस के अलावा भी बहुत से ऐसे वाहन हैं; जो कि व्यापार द्वारा या व्यापार में इस्तेमाल किये जाते हैं; इसमें कुछ खास वाहन जैसे कि विभिन्न कृषि कार्यो में इस्तेमाल होने वाले वाहन; खुदाई और निर्माण कार्य मे इस्तेमाल होने वाले वाहन शामिल है।
  • एक Commercial Vehicle Insurance इन वाहनों को होने वाली किसी भी तरह की क्षति या नुकसान के बदले में; ड्राइवर और वाहन के मालिक को आर्थिक भरपाई देने का काम करता है।
  • इन वाहनों में खर्च हुई लागत और इनका आकार को देखते हुए कमर्शियल व्हीकल इन्शुरन्स; आपके नुकसान की भरपाई के लिए सबसे बेहतर रास्ता है; इसकी मदद से आप ना सिर्फ खुद के लिए जोखिम को कम कर सकते हैं; बल्कि किसी अनहोनी की वजह से खुद को होने वाले आर्थिक नुकसान से भी बच सकते हैं।

CLICK

About naveenduhan

Check Also

PFA Full Form in Mail | पीएफए की फुल फॉर्म क्या है?

दोस्तों, अगर आप इन्टरनेट का उपयोग करते हैं तो आप Email के बारे में भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.