MSME Loan क्या होता है – MSME लोन ले लिए Apply कैसे करे

एमएसएमई लोन

इस समय में जब देश सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम (एमएसएमई) कर्ज मिलने की समस्‍या से जूझ रहा हैं। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने एक ऐसा पोर्टल लॉन्‍च किया है जो एमएसएमई को केवल 59 मिनट में 1 करोड़ रुपए तक के कर्ज को मंजूरी देगा।सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (MSME) सेक्टर के बिजनेस का संचालन सही तरीते से हो सके, इसके लिए केन्द्र सरकार प्रयासरत है। इसी क्रम में एमएसएमई कारोबारियों का सहज तरीके से लोन मुहैया कराने का प्रयास किया जाता है।

माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइज (MSME) लोन एक प्रकार का बिज़नेस लोन है जो बैंकों/ लोन संस्थानों द्वारा व्यक्तियों, SME, MSME और स्टार्ट-अप उद्यमों को दिया जाता है। MSME लोन का उपयोग बिज़नेस के मालिकों और इंटरप्राइज़ेज़ के द्वारा अपनी वर्किंग कैपिटल की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, कैश फ्लो के मैनेजमेंट या व्यवसाय को बढ़ाने के लिए, आदि के लिए किया जाता है। कई लोन संस्थान/ बैंक अपने ग्राहकों को कोलैटरल या किसी भी सिक्योरिटी के बिना SME और MSME लोन प्रदान करते हैं। इस लेख में हम बात करेंगे कि आप एमएसएमई लोन कैसे लें या आप MSME लोन कैसे प्राप्त कर सकते हैं? एमएसएमई लोन योजनाएं व इससे संबंधित अन्य जानकारी निम्नलिखित है।

दुनिया की हर एक अर्थव्यस्था में सूक्ष्य, लघु और मध्यम उद्यमों (MSME) की खास भूमिका होती है. ये बड़ी संख्या में रोजगार पैदा करते हैं. आर्थिक गतिविधियों को रफ्तार देते हैं. आर्थिक विकास को बढ़ाते हैं. इनोवेशन को प्रोत्साहित करते हैं. भारत में भी यह सेगमेंट बहुत बड़ा है. इसमें 6.30 करोड़ से ज्यादा यूनिटें शामिल हैं. इन यूनिटों में करीब 11.10 करोड़ लोग काम करते हैं. देश की जीडीपी में भीएमएसएमई का काफी योगदान है. इसमें सेगमेंट की हिस्सेदारी करीब 30 फीसदी है.

एमएसएमई लोन

माइक्रो, स्मॉल, और मीडियम एंटरप्राइज अपने कारोबार को बढ़ाने या नया उद्यम शुरू करने के लिए एमएसएमई लोन का लाभ उठा सकते हैं। एमएसएमई लोन का इंटरेस्ट रेट, 7.95% और 16.25% के बीच होता है। इस लोन की एक मैक्सिमल लोन अमाउंट लिमिट है। इसके तहत अधिक-से-अधिक 500 करोड़ रुपये का लोन लिया जा सकता है। लेकिन, कुछ बैंकों में ऐसी कोई लिमिट नहीं रहती है। एमएसएमई लोन का रीपेमेंट पीरियड, 15 साल तक का हो सकता है।

You Must Read This Vehicle Insurance All details

एमएसएमई लोन के योग्यता सम्बन्धी मानदंड

एमएसएमई लोन पाने के लिए उधारकर्ता को उधारदाता द्वारा तय किए गए योग्यता सम्बन्धी मानदंडों को पूरा करना पड़ता है। अलग-अलग बैंक में और अलग-अलग स्कीम के आधार पर ये मानदंड अलग-अलग होते हैं। लेकिन आपकी सुविधा के लिए नीचे कुछ सामान्य मानदंड बताए गए हैं:

  • आपका कारोबार, मैनुफैक्चरिंग या सर्विस सेक्टर से जुड़ा होना चाहिए।
  • माइक्रो, स्मॉल, और मीडियम एंटरप्राइज के लिए इन्वेस्टमेंट लिमिट, ऊपर बताए गए सेक्टर के आधार पर अलग-अलग होता है।
  • मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में इन्वेस्टमेंट के लिए:
    • माइक्रो – 25 लाख रुपये से कम
    • स्मॉल – 25 लाख रुपये से अधिक और 5 करोड़ रुपये से कम
    • मीडियम – 5 करोड़ रुपये से अधिक और 10 करोड़ रुपये से कम
  • सर्विस सेक्टर में इन्वेस्टमेंट के लिए:
    • माइक्रो – 10 लाख रुपये से कम
    • स्मॉल – 10 लाख रुपये से अधिक और 2 करोड़ रुपये से कम
    • मीडियम – 2 करोड़ रुपये से अधिक और 5 करोड़ रुपये से कम

MSME लोन ब्याज दर – 2022

बैंक/ NBFC ब्याज दर (प्रतिवर्ष)
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया  8% से शुरु (SME Loan)
एक्सिस बैंक बिज़नेस लोन 15% से शुरु
कोटक महिंद्रा बैंक बिज़नेस लोन 15% से शुरु
HDFC बैंक बिज़नेस लोन 16% से शुरु
ज़िपलोन बिज़नेस लोन 16% से शुरु
बजाज फिनस़र्व बिज़नेस लोन 17% से शुरु
फुलेर्टन फाइनेंस बिज़नेस लोन 17% से शुरु
हीरो फिनकॉर्प बिज़नेस लोन 18% से शुरु
ICICI बैंक बिज़नेस लोन 18% से शुरु
IIFL फाइनेंस बिज़नेस लोन 18% से शुरु
Indifi फाइनेंस बिज़नेस लोन 18% से शुरु
लैंडिंगकार्ट फाइनेंस बिज़नेस लोन 18% से शुरु
नियोग्रोथ फाइनेंस बिज़नेस लोन 18% से शुरु
टाटा कैपिटल फाइनेंस बिज़नेस लोन 18% से शुरु
RBL बैंक बिज़नेस लोन 19% से शुरु
IDFC फर्स्ट बिज़नेस लोन 20% से शुरु
SME कॉर्नर बिज़नेस लोन 20% से शुरु
HDB फाइनेंशियल सर्विस लि. बिज़नेस लोन 22% से शुरु
बैंक ऑफ बड़ौदा प्रोफाइल पर निर्भर
पंजाब नैशनल बैंक प्रोफाइल पर निर्भर

नोट: उल्लिखित ब्याज दरें, शुल्क और शुल्क बैंक, NBFC और RBI के विवेक पर निर्भर करते हैं। उल्लिखित शुल्कों पर GST अतिरिक्त लगाया जाएगा|

MSME लोन – विशेषताएँ, फीस और ब्याज दर

ब्याज दर व्यावसायिक आवश्यकताओं पर निर्भर करता है
लोन राशि लोन राशि की कोई न्यूनतम लिमिट नहीं है, वहीं अधिकतम लोन राशि1 ₹ करोड़  तक है जो कि व्यावसायिक आवश्यकताओं के अनुसार बढ़ सकती है
भुगतान अवधि 12 महीने से – 5 वर्ष
कोलेटरल अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन के लिए आवश्यक नहीं है
प्रोसेसिंग फीस लोन राशि का 0 से 4%
फोरक्लोज़र फीस बकाया लोन राशि का 0 से 5%
पार्ट पेमेंट फीस 0 से 4 % तक
लोन केन्सेलेशन फीस बैंक से बैंक में अलग अलग होती है
सब्सिडी चयनित लोन संस्थानों द्वारा ऑफर की जाती है
क्रेडिट सुविधाएँ वर्किंग कैपिटल लोन, बिल डिस्काउंटिंग, ओवरड्राफ्ट, कैश क्रेडिट, लैटर ऑफ़ क्रेडिट, बिल परचेज़, मर्चेंट ऑफ़ कैश एडवांस आदि

नोट: ऊपर दी गई सभी ब्याज दरें, फीस और शुल्क परिवर्तन के अधीन हैं और बैंक/ एनबीएफसी और आरबीआई के पूर्ण विवेक पर निर्भर हैं। दिए गए शुल्कों पर जीएसटी और सर्विस तक अतिरिक्त लगाया जाएगा।

Also Read Loan For Ladies महिला समृद्धि योजना & मुद्रा लोन योजना

एमएसएमई लोन
एक एमएसएमई लोन के लिए आवेदन करते समय आवेदन फॉर्म में निम्नलिखित जानकारी शामिल करने के लिए कहा जा सकता है :
  • आवेदन की तारीख
  • एंटरप्राइज या उद्यम का नाम
  • रजिस्टर्ड ऑफिस का पता
  • फैक्टरी या दुकान का पता
  • क्या एंटरप्राइज, एससी/ एसटी/ ओबीसी/ अल्पसंख्या समुदाय से सम्बन्ध रखता है
  • टेलीफोन नंबर
  • ईमेल एड्रेस
  • मोबाइल नंबर
  • पैन कार्ड नंबर
  • बनावट (प्रोप्राइटरशिप, पार्टनरशिप फर्म, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, लिमिटेड कंपनी, कोऑपरेटिव सोसाइटी)
  • स्थापना की तारीख
  • राज्य जहाँ कारोबार स्थित है
  • ब्रांच जहाँ कारोबार स्थित है
  • प्रोप्राइटरों या पार्टनरों या डायरेक्टरों का नाम और उनकी उम्र, शैक्षिक योग्यता, पता, टेलीफोन नंबर, और अनुभव
  • मौजूदा कार्य
  • संबंधित एसोसिएट का नाम और एसोसिएशन की प्रकृति
  • मौजूदा क्रेडिट सुविधाओं का उल्लेख करें, यदि कोई हो
  • प्रस्तावित क्रेडिट सुविधाओं को सूचीबद्ध करें
  • यदि टर्म लोन की जरूरत है तो मशीनरी का विवरण देना जरूरी है। इसमें मशीन के प्रकार का विवरण, मशीन का उद्देश्य, क्या उसे इम्पोर्ट करके मंगाया गया है, सप्लायर का नाम, मशीन की लागत, प्रमोटर द्वारा लगाया गया पैसा, और आवश्यक लोन अमाउंट सम्बन्धी विवरण होना चाहिए।
  • प्रोजेक्ट की लागत का विवरण जिसमें जमीन का डेवलपमेंट, बिल्डिंग का निर्माण, प्लांट और मशीनरी की खरीद, गाड़ियों की खरीद, अन्य सामानों की खरीद, इमरजेंसी फंड, हॉलिडे पीरियड के दौरान इंटरेस्ट, और वर्किंग कैपिटल मार्जिन जैसे विवरण भी शामिल होने चाहिए।
  • प्रोजेक्ट को फाइनेंस करने का माध्यम, जिसमें मालिक का लगा पैसा, अनसिक्योर्ड लोन, सब्सिडी, और टर्म लोन जैसे विवरण भी शामिल होने चाहिए।
  • यदि कोई जमानत और कोई थर्ड पार्टी गारंटी दी गई है तो उन सबका विवरण।
  • वैधानिक दायित्व स्थिति का जिक्र करना होगा। वैधानिक दायित्वों में शामिल है – दुकान और प्रतिष्ठान अधिनियम के तहत रजिस्ट्रेशन, एसएसआई के तहत रजिस्ट्रेशन (प्रोविजनल और फाइनल), ड्रग लाइसेंस, सबसे हाल ही में फ़ाइल किया गया सेल्स टैक्स रिटर्न, सबसे हाल की इनकम टैक्स रिटर्न की फाइलें, और कोई अन्य वैधानिक बकाया रकम जो अभी भी देना बाकी है

MSME लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज़

  • बिज़नेस प्लान
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो के साथ हुआ एप्लीकेशन फॉर्म
  • आवेदक और सह-आवेदकों के केवाईसी दस्तावेज जिनमें पासपोर्ट, आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड और यूटिलिटी बिल (टेलीफोन, बिजली) शामिल हैं
  • आय का प्रमाण
  • बिज़नेस के पते का प्रमाण
  • पिछले 6 महीनों का बैंक स्टेटमेंट
  • यदि आवश्यक हो तो लाइसेंस, सर्टिफिकेट और रजिस्ट्रेशन की कॉपी
  • अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति या अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित होने का प्रमाण, यदि लागू हो
  • लोन संस्थान द्वारा आवश्यक कोई अन्य दस्तावेज

एमएसएमई लोन / SME बिज़नेस लोन के लिए योग्यता शर्तें

  • आयु: न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 70 वर्ष
  • लोन के लिए योग्य हैं: व्यक्ति, SME, MSMEs, बिज़नेस, महिला उद्यमी, स्व-रोज़गार पेशेवर, SC / ST / OBC श्रेणी के अंतर्गत आने वाले लोग, व्यापारी, कारीगर, रीटेल व्यापारी,  सर्विस और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में लगे हुए बिज़नेस
  • योग्य कम्पनियाँ : प्राइवेट या पब्लिक लिमिटेड, सोल प्रोप्राइटरशिप, पार्टनरशिप फर्म, लिमिटेड लाइबिलिटी पार्टनरशिप
  • बिज़नेस टर्नओवर: वर्तमान व्यवसाय के लिए ₹10 लाख, एक से दूसरे बैंक पर निर्भर
  • अच्छा भुगतान रिकॉर्ड होना चाहिए और वित्तीय स्थिरता
  • 750 से अधिक CIBIL स्कोर
  • किसी भी लोन संस्थान के साथ डिफॉल्ट न किया हो

सरकारी योजनाएं के अंतर्गत MSME लोन के प्रकार

एमएसएमई मंत्रालय के तहत शुरू की गई SME/ MSME लोन योजनाएं सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) को विभिन्न बैंकों और NBFC द्वारा पेश की जाती हैं। बैंकों द्वारा दी जाने वाली और भारत सरकार द्वारा शुरू की गई लोकप्रिय MSME लोन योजनाएं नीचे दी गई हैं:

एमएसएमई लोन

MSME लोन का उद्देश्य

  • वर्किंग कैपिटल आवश्यकताओं को पूरा करें
  • बिज़नेस बढ़ाने के लिए
  • कैश फ्लो मैनेज करने के लिए
  • नए इक्विपमेंट या मशीनरी खरीदने के लिए
  • कच्चे माल, वाहन, इक्विपमेंट, आदि की खरीद के लिए
  • इन्वेंट्री स्टॉक करने के लिए
  • किराए का भुगतान, वेतन आदि के भुगतान के लिए।

एमएसएमई योजनाओं की नई श्रेणियां

निर्माण और सेवा क्षेत्र,  दोनों क्षेत्रों में लगे उद्यमों के लिए निवेश राशि और वार्षिक टर्नओवर को समान बनाकर बीच के अंतर को हटा दिया गया है।

MSME : निवेश और वार्षिक टर्नओवर
क्षेत्र/ उद्यम प्रकार माइक्रो/ बहुत छोटे व्यवसाय छोटे स्तर के व्यवसाय मध्यम स्तर के व्यवसाय
निर्माण और सेवा क्षेत्र, दोनों ₹ 1 करोड़ से कम का निवेश
₹ 5 करोड़ से कम का टर्नओवर
₹ 10 करोड़ से कम का निवेश
₹ 50 करोड़ तक का टर्नओवर
₹ 50 करोड़ से कम का निवेश
₹ 250 करोड़ तक का टर्नओवर
MSME टोल-फ्री न०: 1800-123-7376
सामान्य पूछताछ के लिए: 011-23063288/011-23063643

अगर आप कोई MSME चला रहे हैं तो लोन के आवेदन के वक्त आपको कुछ बातें ध्यान रखनी चाहिए. हम इनके बारे में बता रहे हैं. ये 2 लाख से 50 लाख रुपये के बिजनेस लोन के संबंध में हैं.

अच्छा क्रेडिट स्कोर

आपका क्रेडिट स्कोर आपकी साख है. यह बताता है कि लोन के भुगतान में पहले आपका रवैया कैसा रहा है. यानी आपने किस तरह से लोन की अदायगी की. इसे देखकर कर्जदाताओं के पास लोन मंजूर करने के संबंध में एक खाका तैयार हो जाता है. लिहाजा, अच्छे क्रेडिट स्कोर को बनाए रखना बहुत जरूरी है. कुछ वित्तीय संस्थान तो अच्छे क्रेडिट स्कोर वाले ग्राहकों को बेहतर दरों पर ब्याज की पेशकश करते हैं.

जीएसटी और अन्य आवश्यक रजिस्ट्रेशन

जीएसटी और अन्य तरह के कानूनी रजिस्ट्रेशन अनुपालन संबंधी जांच में मदद करते हैं. उन बिजनेस को बैंक कर्ज देने में ज्यादा सहज महसूस करते हैं जो कानूनी ढांचे में आते हैं.

फाइनेंशियल स्टेटमेंट का ऑडिट
ऑडिट किए हुए फाइनेंशियल स्टेटमेंट लोन की मंजूरी में सहूलियत देते हैं. इनसे बैंक या वित्तीय संस्थानों को यह पता लगाने में मदद मिलती है कि कारोबार का प्रबंधन कितनी अच्छी तरह से हो रहा है. कारोबार मुनाफे में है तो कर्जदाता लोन देने में ज्यादा दिलचस्पी लेंगे.

मुनाफे और टैक्स का रिकॉर्ड
कारोबार मुनाफे में है तो यह दिखाता है कि उस कंपनी के पास लोन चुकाने के लिए पर्याप्त पैसा है. इस तरह मुनाफे और टैक्स चुकाने में नियमितता का असर पड़ता है. इससे तय होता है कि आपको कितना बड़ा लोन दिया जा सकता है.

बैंक स्टेटमेंट

कर्जदाता आपके बैंक खाते का भी आकलन करते हैं. यह दिखाता है कि बिक्री से बिजनेस में कितना कैश फ्लो हुआ. इससे लोन, ईएमआई आदि के संबंध में देनदारी का भी पता लगता है. टेक्नोलॉजी के कारण अब बैंक ट्रांजेक्शन की समीक्षा संभव हो गई है. इससे MSME की लोन अदायगी की क्षमता का पता लगाया जा सकता है. आज कई फिनटेक कंपनियां और बैंक लोन की मंजूरी में इस तरह की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रही हैं.

अपने मौजूदा बैंक से संपर्क करें
बिजनेस लोन के लिए सबसे पहले उस बैंक से ही संपर्क करें जहां आपका सेविंग या करेंट अकाउंट खुला है. इस बैंक के पास आपके तमाम लेनदेन का बना-बनाया ब्योरा होता है. इसके लिए उन्हें किसी मशक्कत की जरूरत नहीं पड़ती है. इस तरह बेहतर शर्तों के साथ वह लोन की पेशकश कर सकता है.

एमएसएमई लोन

कितना टिकाऊ है बिजनेस

कोई बिजनेस कितना टिकाऊ है यह कई बातों पर निर्भर करता है. ग्राहकों की संतुष्टि, ग्रोथ स्ट्रैटेजी और बाजार की समझ, इसमें प्रमुख हैं. इन मानकों पर कोई कारोबार जितना खरा होगा, वह उतना ही टिकाऊ होगा. आज बिना क्रेडिट हिस्ट्री वालों को भी लोन मिल सकता है. यह अलग बात है कि यह महंगा होता है. बिजनेस जितना पुराना होगा लोन उतनी आसानी से मंजूर होता है.

वास्तविक अनुमान
बिजनेस लोन लेने के लिए भविष्य के अनुमानों और विस्तार की योजनाओं को वास्तविक होना चाहिए. इसके पक्ष में उचित अनुमान रखने चाहिए. वाजिब अनुमान लोन अदा करने की आपकी विश्वसनीयता को दिखाते हैं.

लंबी अवधि

जरूरी नहीं है कि आप उतना लोन लें जितने की पेशकश बैंक कर रहा हो. बजाय इसके जरूरत के अनुसार लोन के लिए आवेदन करें. आप उस अवधि पर भी विचार कर लें जिसमें इसका भुगतान करना है. लोन की अवधि ऐसी रखें जिससे आप आसानी से लोन का भुगतान कर पाएं.

पैसों का इस्तेमाल
बिजनेस के लिए मिली लोन की रकम को केवल उसमें ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए. लोन आवेदन की प्रोसेसिंग के समय बैंक इस बात पर खास जोर देते हैं कि लोन की रकम कैसे इस्तेमाल की जाएगी. इस पैसे के उपयोग को लेकर वे काफी सतर्क रहते हैं.

जिम्मेदारी से लोन अदा करते हैं तो लंबी अवधि में अच्छी साख बन जाएगी. इससे भविष्य में लोन मिलने की संभावना बढ़ेगी. इन बातों को ध्यान में रखकर अपने बिजनेस को आप बढ़ा सकते हैं.

एमएसएमई बिजनेस लोन योजना के लिए की गयी ये 12 घोषणाएं

  1. 59 मिनट लोन पोर्टल का देशव्यापी लॉन्‍च।
  2. जीएसटी के तहत पंजीकृत एमएसएमई इकाइयों को एक करोड़ रुपए तक के नए कर्ज पर ब्याज दर में 2 प्रतिशत की छूट।
  3. निर्यातकों को निर्यात से पहले और बाद की जरूरतों के लिए कर्ज पर ब्याज सहायता 3% से बढ़ाकर 5% प्रतिशत की गई।
  4. एमएसएमई से सार्वजनिक कंपनियों के लिए अनिवार्य खरीद को 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत करने का फैसला।
  5. माइक्रो और स्मॉल इंटरप्राइजेज द्वारा खरीदारी की अनिवार्यता में कुल खरीद का 3 प्रतिशत, महिला उद्यमियों के लिए आरक्षित होगा। अब केंद्र सरकार की सभी कंपनियों के लिए GeM की सदस्यता लेना ज़रूरी कर दिया गया है।
  6. वो अपने सभी Vendors-MSME’s को भी इस प्लेटफॉर्म पर पंजीकृत कराएंगी। जिससे उनके द्वारा की जा रही खरीद में भी MSMEs को अधिक से अधिक लाभ मिलेगा।
  7. MSME सेक्टर की फार्मा कंपनियों को बिजनेस करने में आसानी हो। वो सीधे ग्राहकों तक पहुंच पाएं, इसके लिए अब क्लस्टर बनाने का फैसला लिया गया है।
  8. सरकार ने कंपनी अधिनियम 2013 में बहुत बड़ा बदलाव कर, MSMEs को कानूनी जटिलताओं से राहत दी है।
  9. सरकार आप पर भरोसा करके Self-Certification पर आपके रिटर्न स्वीकृत करेगी। Labor Department की तरह पर्यावरण के Routine Inspection समाप्त होंगे और सिर्फ 10 प्रतिशत MSMEs का निरीक्षण होगा।
  10. वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण कानूनों के तहत MSMEs के लिए इन दोनों को एक करके, अब सिर्फ एक ही Consent अनिवार्य होगा। Environmental Clearance की प्रक्रियाओं का सरलीकरण और Self Certification को बढ़ावा दिया जाएगा।

इस ऋण योजना के लिए हाल ही में लॉन्च किया गया आम वेब पोर्टल ऋण प्रसंस्करण और टर्नअराउंड टाइम अवधि 20 से 25 दिनों तक केवल 59 मिनट तक कम कर देगा। सैद्धांतिक मंजूरी के बाद, ऋण 7 से 8 दिनों की अवधि के भीतर स्वीकृत किया जाएगा।

कोलेटरल/ सिक्योरिटी के बिना MSME बिज़नेस लोन 

MSME Business Loan ग्राहकों द्वारा उनकी वर्किंग कैपिटल ज़रुरतों को पूरा करने और व्यवसाय को बढ़ाने के लिए लिया जाता है। नए व्यवसाय के लिए जो MSME लोन बैंकों द्वारा दिए जाते हैं वो ज़्यादातर अन-सिक्योर्ड बिज़नेस लोन होते हैं, क्योंकि इस प्रकार के लोन के बदले उधारकर्ता से किसी तरह का कोलेटरल/ सिक्योरिटी नहीं ली जाती है।

बिना कोलेटरल/ सिक्योरिटी के एमएसएमई बिज़नेस लोन (Collateral Free MSME Loan) प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों पर ऑफर किए जाते हैं जिन्हें EMI के रूप में आसानी से चुकाया जा सकता है। कोलेटरल/ सिक्योरिटी-फ्री लोन आमतौर पर शॉर्ट-टर्म लोन होते हैं जिन्हें 12 महीने की अवधि के भीतर चुकाया जा सकता है, और व्यावसायिक आवश्यकताओं के आधार पर ये अवधि 5 वर्ष तक हो सकती है।

लोन राशि आवेदक की प्रोफ़ाइल, भुगतान क्षमता और वित्तीय स्थिरता पर निर्भर करेगी। अधिकांश बैंक जैसे निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, गैर-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (एनबीएफसी), क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (आरआरबी), स्मॉल फाइनेंस बैंक (एसएफबी) और माइक्रो फाइनेंस संस्थान (एमएफआई) बिना कोलेटरल/ सिक्योरिटी के MSME लोन प्रदान करते हैं।

MSME लोन के लिए कैसे अप्लाई करें?

बिज़नेस लोन के लिए आवेदन करने के लिए, आवेदक व्यवसाय की आवश्यकताओं के अनुरूप विभिन्न लोन विकल्पों की जांच और तुलना कर सकते हैं। वेबसाइट के होमपेज पर ‘बिज़नेस लोन’ पर क्लिक करके बिज़नेस लोन के लिए अप्लाई करने के लिए नीचे दिए गए तरीके का पालन करें।

  • सभी आवश्यक जानकारी भरें, जैसे कितनी लोन राशि चाहिए, रोज़गार की स्थिति, वार्षिक बिक्री या कारोबार, निवास का शहर, वर्तमान व्यवसाय में कितने वर्ष हुए हैं, कोलेटरल/ सिक्योरिटी प्रकार और मोबाइल नंबर
  • शर्तों पर सहमत होने के लिए नीचे दिए गए बॉक्स को टिक करें और आगे “Unlock Best Offers” पर क्लिक करें
  • इसके अलावा आपको कंपनी का प्रकार, व्यवसाय की प्रकृति, उद्योग का प्रकार, कुल वार्षिक लाभ, बैंक खाता, कोई मौजूदा EMI, पूरा नाम, लिंग, रेजिडेंस पिन कोड, पैन कार्ड न०, जन्म तिथि और ईमेल आईडी जैसी जानकारियां दर्ज करें
  • सभी जानकारियां जमा करने के बाद, बैंक का प्रतिनिधि लोन फॉर्मेलिटी के लिए आपसे संपर्क करेगा
  • एक बार जब आपका लोन आवेदन स्वीकार हो जाता है, तो निर्धारित कार्य दिवसों के भीतर मंज़ूर लोन राशि आपके बैंक खाते में ट्रान्सफर कर दी जाएगी।

विभिन्न निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, NBFC, स्मॉल फाइनेंस बैंक SFB, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (RRB) और माइक्रो फाइनेंस इंस्टिट्यूट (MFI) द्वारा दी जाने वाली MSME/ SME लोन ब्याज दरें, व्यवसाय की प्रकृति और भुगतान अवधि, आवेदक की प्रोफ़ाइल, भुगतान रिकॉर्ड, भुगतान क्षमता, लोन राशि जैसे विभिन्न कारकों पर आधारित हैं।

 

About naveenduhan

Check Also

PFA Full Form in Mail | पीएफए की फुल फॉर्म क्या है?

दोस्तों, अगर आप इन्टरनेट का उपयोग करते हैं तो आप Email के बारे में भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.