Unsecured Loan Vs Secured Loan में क्या अंतर है जानिए पूरी details हिंदी में

नए कर्मचारियों को काम पर रखना, उपकरण खरीदना या प्रौद्योगिकी को अपडेट करना आदि जैसे सारे कामों के लिए धन की ज़रूरत होती है। इन सभी ज़रूरतों को या तो व्यापार में मिले मुनाफ़े से या व्यापार के मालिक द्वारा लिए गए व्यक्तिगत क्रेडिट से पूरा किया जा सकता है। जब भी आपको बैंक को बिना कुछ गारंटी दिए/ या बिना कुछ गिरवी रखे बिज़नेस लोन मिलता है तो वो एक Unsecured Loan होता है।

वर्तमान समय तो बिजनेस लोन कई प्रकार के दिए जाते हैं। वर्किंग कैपिटल बिजनेस लोन का ही एक प्रकार है। वर्किंग कैपिटल के जरिए कारोबार की दैनिक जरूरतों को पूरा करने में बेहतर मदद मिलती है। इससे उद्योग में जरूरी उपकरण इत्यादि खरीदने में मदद मिलती है।

बिजनेस लोन के करिए लघु उद्योग कारोबारी अपने उद्योग के लिए जरूरी मशीनरी लगा सकते हैं। उद्योग में मशीनरी का ही मूल चमत्कार होता है। मशीनरी के लिए जरिए बेहतर प्रोडक्ट कम समय मैनुफैक्चरिंग होता है। बेहतर क्वॉलिटी के प्रोडक्ट मिलने से ग्राहकों को संतुष्टि मिलती है और ग्राहक उसी प्रोडक्ट को बार – बार खरीदना चाहता है। इससे कारोबारी को मुनाफा होता है। कारोबार में बिजनेस लोन से इतना लाभ होता है। बिजनेस लोन प्रमुख रुप से दो प्रकार का होता है – सिक्योर्ड बिजनेस लोन और Unsecured बिजनेस Loan

क्या होता है अन-सिक्योर्ड लोन? : अनसिक्योर्ड लोन (Unsecured Loan) यानी असुरक्षित ऋण ऐसा ऋण होता है जिसके लिए कोलैटरल के किसी प्रकार की आवश्यकता नहीं होती है। सिक्योरिटी के रूप में उधारकर्ता के किसी एसेट पर निर्भर रहने के बजाय, लेंडर किसी उधारकर्ता की साख के आधार पर अनसिक्योर्ड लोन की मंजूरी दे देता है। अनसिक्योर्ड लोन के उदाहरणों में पर्सनल लोन, स्टूडेंट लोन और क्रेडिट कार्ड शामिल हैं।

मुख्य बातें

Unsecured Loan संपत्ति या अन्य एसेट जैसे किसी कोलैटरल के बजाय केवल उधारकर्ता की साख द्वारा ही समर्थित होते हैं।अन-सिक्योर्ड लोन लेंडरों के लिए सिक्योर्ड लोन की तुलना में अधिक जोखिम वाले होते हैं, इसलिए मंजूरी के लिए उन्हें अधिक क्रेडिट स्कोर की आवश्यकता होती है।

क्रेडिट कार्ड, स्टूडेंट लोन और पर्सनल लोन अन-सिक्योर्ड लोन के उदाहरण हैं। अगर कोई उधारकर्ता अन-सिक्योर्ड लोन पर डिफॉल्ट करता है, तो लेंडर ऋण वसूलने के लिए या उधारकर्ता को अदालत में ले जाने के लिए कलेक्शन एजेंसी कमीशन कर सकता है। लेंडर फैसला कर सकते हैं कि उधारकर्ता की साख के आधार पर अनसिक्योर्ड लोन को मंजूरी दें या न दें, लेकिन कानून उधारकर्ताओं को भेदभावपूर्ण लेंडिंग प्रथाओं से बचाते हैं।

बिना गिरवी बिजनेस लोन पूरी तरह कारोबारी के सिबिल स्कोर यानी क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करता है। इस तरह के लोन अपेक्षाकृत कम समय के लिए होता है। बिना गिरवी के लोन मिलने में सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है- इनकम का जरिया (सोर्स ऑफ़ इनकम) को देखना। बैंक या NBFC कंपनियां सिर्फ यह देखती हैं कि लोन के लिए अप्लाई करने वाले व्यक्ति/संस्था का इनकम का क्या सोर्स है|

असुरक्षित ऋण किस प्रकार काम करता है?

Unsecured Loan को कभी कभार सिग्नेचर लोन या पर्सनल लोन के रूप में संदर्भित किया जाता है और उनकी मंजूरी कोलैटरल के रूप में बिना संपत्ति या अन्य किसी एसेट को उपयोग में लाए दी जाती है। मंजूरी और रिसीप्ट सहित इन ऋणों की शर्तें अधिकतर किसी उधारकर्ता के क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करती है। सामान्य रूप से, उधारकर्ताओं का अनसिक्योर्ड लोन के लिए मंजूरी पाने के लिए निश्चित रूप से उच्च क्रेडिट स्कोर होना चाहिए। Unsecured Loan सिक्योर्ड लोन के विपरीत होता है जिसमें कोई उधारकर्ता लोन के कोलैटेरल के रूप में कुछ प्रकार के एसेट को गिरवीं रखता है।

गिरवीं रखे गए एसेट लोन उपलब्ध कराने के लिए लेंडर की ‘सिक्योरिटी’ को बढ़ा देते हैं। सिक्योर्ड लोन के उदाहरणों में मॉर्गेज और कार लोन शामिल हैं। चूंकि अनसिक्योर्ड लोन कोलैटरल द्वारा समर्थित नहीं होते हैं, लेंडरों के लिए वे जोखिम भरे होते है इसलिए उन पर अधिक ब्याज दरें लगती हैं।

You May Also Like Travel Forex Card Kya Hai

असुरक्षित ऋण के कुछ लाभ:

  • Unsecured Loan में कोई सुरक्षा शामिल नहीं है और इसलिए अगर लोन लेने वाला लोन नहीं पटा पाता है, तो लेंडर सुरक्षा के रूप में दी गई उसकी संपत्ति को ज़ब्त नहीं कर सकता है, जो लेंडर के लिए जोख़िम भरा हो सकता है।
  • अगर व्यापार के लिए धन की तुरंत ज़रूरत है, तो असुरक्षित लोन सबसे अच्छा विकल्प है।
  • आजकल असुरक्षित लोन लेना काफ़ी आसान है, क्योंकि बाजार में कई नए लेंडर हैं, जो छोटे व्यापारों को यह सुविधा देते हैं।
  • जब भी व्यापार में कोई प्रतिकूल कैश फ्लो होता है, या रोज़ के व्यापार के ख़र्चों को पूरा करने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं होते हैं, तो इस स्थिति में सुधार होने तक असुरक्षित लोन लिया जा सकता है।
  • असुरक्षित लोन लेने के लिए लोन आवेदन ऑनलाइन किया जा सकता है। यह बार-बार लेंडर के पास जाने से बहुत आसान है।
  • ऑनलाइन लोन प्रौद्योगिकी के द्वारा काम करता है और इसलिए लोन मिलना और स्वीकार होना बहुत तेज़ है।

इतने सारे फ़ायदे होने के अलावा, ऐसे कुछ नुकसान भी हैं जो एक Unsecured Loan से जुड़े हुए हैं।

असुरक्षित ऋण के नुकसान:

  • हालांकि असुरक्षित लोन के मामले में लेंडर आपकी संपत्ति को ज़ब्त नहीं कर सकता है, लेकिन वह अदालत में आपके ऊपर मुकदमा कर सकता है। ऐसे मामले में, आपको फिर मूल लोन राशि, खाया हुआ शुल्क और अदालत की फ़ीस का भी भुगतान करना होगा। 
  • यह आपके क्रेडिट स्कोर को नकारात्मक तरीके से प्रभावित करेगा और भविष्य में आपको लोन मिलने में दिक्कत दे सकता है।
  • लेंडर आपके द्वारा लोन पर दिए गए इंटरेस्ट के ऊपर लाभ कमाता है। यदि आप यह देने से चूक जाते हैं, तो लेंडर को कोई लाभ नहीं मिलता है। इससे बचने के लिए, लेंडर आपकी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच करेगा और आपको दी जा रही धन की राशि को भी सीमित कर सकता है।

अगर आप एक Unsecured Loan लेने का निर्णय लेते हैं, तो एक लेंडर का चयन करने से पहले, यह काफी ज़रूरी है कि आप नियम, शर्तों और पात्रता मानदंडों को अच्छी तरह से समझ लें।

असुरक्षित ऋण के लिए पात्रता मानदंड:

  • आवेदक की उम्र न्यूनतम 21 वर्ष (लोन आवेदन के समय) और अधिकतम 65 वर्ष (लोन खत्म होने के समय) होनी चाहिए।
  • व्यवसाय का न्यूनतम कारोबार 15 लाख रुपये और अधिकतम कारोबार रुपये 1 करोड़ रुपये होना चाहिए।
  • एक व्यापार के लिए एक व्यापार लोन के लिए पात्र होने के लिए, उसे कम से कम 1 वर्ष और अधिकतम 3 वर्षों से चलता रहना चाहिए।
  • व्यापार का क्रेडिट स्कोर भी अच्छा होना चाहिए। एक अच्छा क्रेडिट स्कोर 750-900 के बीच होता है। लेकिन यह लेंडर पर भी निर्भर करता है। खराब क्रेडिट स्कोर होने पर लोन के लिए आवेदन करते समय लेंडर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

आपके व्यापार की वित्तीय स्थिरता का आंकलन करने के लिए, लेंडर कुछ दस्तावेज़ मांगते हैं।

असुरक्षित ऋण के लिए ज़रूरी दस्तावेज़:

  • प्रोपराइटर का पैन कार्ड
  • प्रोपराइटर का आधार कार्ड
  • पिछले 12 महीनों के सारे बैंक खातों के बैंक विवरण (पीडीएफ प्रारूप में)
  • पिछले 2 वर्षों का इनकम टैक्स रिटर्न
  • नवीनतम बैलेंस शीट और पी एंड एल (प्रोविशनल या ऑडिटेड) – एक व्यापार की स्थिति का मूल्यांकन करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। वित्तीय विवरण ऑडिट के पहले हर एकाउंटिंग अवधि के अंत में तैयार किए जाते हैं
  • नवीनतम ऑडिट की हुई बैलेंस शीट और पी एंड एल- ऑडिटेड बैलेंस शीट और पी एंड एल सार्वजनिक एकाउंटिंग फर्मों द्वारा हस्ताक्षरित और अनुमोदित हैं
  • दुकान का स्थापना लाइसेंस या गुमास्ता- यह लाइसेंस महाराष्ट्र दुकानें और प्रतिष्ठान अधिनियम के तहत ग्रेटर मुंबई के नगर निगम द्वारा दिया जाता है और यह सभी व्यापारों के लिए ज़रूरी है क्योंकि इसे एक दुकान या कार्यालय या व्यापार के स्थान के माध्यम से आपके व्यापार को चलाने के लिए एक प्रमाणित प्राधिकारी देता है। इसी तरह, लाइसेंस के अलग-अलग सेट होते हैं, जिनकी स्थानीय प्राधिकरण को आवश्यकता होती है 
  • जीएसटी पंजीकरण रसीद
  • जीएसटी प्राप्तियां या चालान

Unsecured Loan पर ब्याज दर

प्रमुख बैंकों और NBFC द्वारा ऑफर किए जाने वाले अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन की ब्याज दर प्रति वर्ष 11.90% से शुरू होती है। हालांकि, आवेदक की प्रोफ़ाइल और व्यावसायिक आवश्यकताओं के आधार पर ब्याज दरें बैंक से बैंक में अलग अलग होती हैं। अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन ब्याज दर विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है, जैसे आवेदक की फाइनेंशियल हिस्ट्री, CIBIL / क्रेडिट स्कोर, पुनर्भुगतान क्षमता, क्रेडिट वेल्थ, वार्षिक टर्नओवर, आदि। 

ये एक नए बिज़नेस को शुरू करने, मौजूदा व्यवसाय को बनाए रखने या बढ़ाने, या किसी अन्य व्यावसायिक आवश्यकता के लिए लिया जाने वाला है। ये लोन व्यवसाय में नई कैपिटल जोड़ते हैं और बिज़नेस या मैनेजमेंट को संगठन की वास्तविक क्षमता का एहसास करने में मदद करते हैं। लोन संस्थानों द्वारा प्रस्तावित अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन ब्याज दरें 11.90% से शुरू होती हैं ।

Also Read Digital Loan Rule; RBI Warn to Bank And Other NBFCs

बिज़नेस के लिए असुरक्षित ऋण के प्रकार

टर्म लोन: किसी भी लोन को चाहे वह सिक्योर्ड हो या Unsecured Loan, जो एक विशिष्ट समय अवधि के लिए लिया जाता है और ईएमआई के रूप में चुकाना पड़ता है, वो टर्म लोन होता है।

वर्किंग कैपिटल लोन: वर्किंग कैपिटल लोन का लाभ व्यवसाय के दिन-प्रतिदिन के खर्चों को पूरा करने के लिए लिया जा सकता है और आवेदक की क्रेडिट वेल्थ और पुनर्भुगतान क्षमता के आधार पर अप्रूव किया जाता है।

ओवरड्राफ्ट: व्यवसाय या व्यक्ति को एक ओवरड्राफ्ट अकाउंट दिया जाता है जिसकी एक तय लिमिट होती है। व्यवसाय या व्यक्ति ज़रूरत पड़ने पर उस तय लिमिट तक की राशि उस अकाउंट में से निकाल सकता है और सुविधानुसार उसका पुनर्भुगतान कर सकता है। ब्याज केवल निकाली गई राशि पर लगता है ना कि कुछ लिमिट राशि पर।  

Unsecured Loan

सरकारी योजनाओं के तहत लोन:

 सरकार द्वारा शुरू की गई कई लोन योजनाएँ हैं, जिनके तहत छोटे व्यवसायी कम ब्याज दर पर बिज़नेस लोन प्राप्त कर सकते हैं। इन योजनाओं में मुद्रा लोन, स्टैंड-अप इंडिया, स्टार्ट-अप योजना, प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) , माइक्रो और स्मॉल एंटरप्राइजेज के लिए क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE), 59 मिनट में सिडबी लोन आदि शामिल हैं।

मर्चेंट कैश एडवांस : यह एक प्रकार की कैश एडवांस है जो किसी व्यापारी के खाते में जमा क्रेडिट कार्ड की बिक्री पर आधारित होती है। लोन की राशि क्रेडिट कार्ड स्वाइप या व्यवसाय की मासिक मात्रा पर तय की जाती है।

माइक्रो लोन:

 माइक्रो लोन आम तौर पर माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूशंस (एमएफआई) द्वारा आवेदक की नकदी आवश्यकता को पूरा करने के लिए ऑफर किए जाते हैं। माइक्रो लेंडिंग रेंज के तहत दी जाने वाली लोन राशि   व्यावसायिक आवश्यकताओं के आधार पर 5,000 रुपये से 2 लाख रुपये तक हो सकती है।

बिज़नेस क्रेडिट कार्ड: व्यवसायी अपने बिज़नेस क्रेडिट कार्ड के बदले बिज़नेस लोन भी ले सकते हैं; लोन राशि मूल रूप से एक व्यवसाय की वर्किंग कैपिटल आवश्यकताओं; को पूरा करने के लिए लोनदाता द्वारा स्वीकृत क्रेडिट लाइन है।

अतिरिक्त Unsecured Loan मेंपर्सनल लोन, एजुकेशन लोन, क्रेडिट कार्ड पर लोन आदि शामिल हैं।

अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन के लिए आवेदन कैसे करें?

Unsecured Loan लोन के लिए आवेदन करने के लिए, ग्राहक आकर्षक ब्याज दरों पर; लोन संस्थानों से उपलब्ध विभिन्न अनसिक्योर्ड बिज़नेस लोन विकल्पों की जांच; तुलना और चयन करने के लिए लेंडर की वेबसाइट पर जाएं; आवेदन का तरीका निम्नलिखित है :

प्रमुख लोन संस्थानों द्वारा ऑफर किए गए सभी बिज़नेस लोन; विकल्पों की जांच और तुलना करने के लिए लेंडर की वेबसाइट पर जाए;| अपने नाम, मोबाइल नंबर, निवास, लोन राशि, ईमेल पता, वार्षिक कारोबार और लाभ; आदि जैसे मूल जानकारियों को दर्ज कर अपनी व्यावसायिक आवश्यकताओं के अनुरूप लोन विकल्प चुनें 

जानकारी दर्ज करने के बाद; लेंडर के कस्टमर एक्ज़िक्यूटिव आपको प्रस्तुत जानकारियों को वैरिफाई करने; और चुने हुए लोन विकल्प पर चर्चा के लिए आगे बढ़ने के लिए संपर्क करेंगे;  आपका बिज़नेस लोन आवेदन आगे वैरिफिकेशन के लिए संबंधित बैंक को भेजा जाएगा; और फिर बैंक के प्रतिनिधि लोन औपचारिकताओं के साथ आगे बढ़ने के लिए आपसे संपर्क करेंगे 

आपके लोन आवेदन स्वीकृत होने के बाद; परिभाषित कार्य दिवसों के भीतर अप्रूव्ड लोन राशि; आपके उल्लिखित बैंक खाते में डिस्बर्स कर दी जाएगी 

Also Read Loan Against LIC (Insurance Policy)

सिक्योर्ड बिजनेस लोन क्या होता है?

इसे अगर बेहद सिंपल भाषा में कहें तो किसी प्रापर्टी के बदले लोन लेना; सिक्योर्ड बिजनेस लोन उस लोन को कहते हैं; जिसे प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को सिक्योरिटी के रूप में संपत्ति गिरवी रखनी पड़ती है।

सिक्योर्ड बिजनेस लोन से कारोबारी आसानी से ज्यादा राशि ले सकते हैं; सिक्योर्ड लोन में मासिक भुगतान कम होता है और चुकाने का अधिक समय मिलता है। Unsecured Loan

बैंक या एनबीएफसी संस्थाएं लोन के बदले इस इसलिए प्रॉपर्टी गिरवी रखवाते हैं; ताकि बिजनेस लोन की रकम न चुकाने की स्थिति में; उस प्रॉपर्टी की नीलामी करके धन को वसूल किया जा सके।

सिक्योर्ड बिजनेस लोन के फायदे – What Is A Secured Loan?

  • लंबे समय में चुकाने का मौका मिलता है
  • इंटरेस्ट (ब्याज दर) अपेक्षाकृत कम होता है
  • मासिक EMI कम होती है

सिक्योर्ड बिजनेस लोन में कठिनाई

  • बिजनेस लोन मिलने में अधिक समय लगता है
  • व्यवसाय ऋण की रकम के बदले संपत्ति गिरवी रखना होता है
  • लंबे समय तक लोन की EMI से चुकाना होता है

Unsecured Loan Vs सिक्योर्ड लोन

लोन प्रकार / श्रेणी Unsecured Loan सिक्योर्ड लोन
सुरक्षा/ गारंटी देना आवश्यक नहीं है आवश्यक है, इक्विपमेंट / कच्चे माल / स्टॉक / मशीनरी / आवासीय या कामर्शियल प्रॉपर्टी के रूप में
ब्याज दर तुलनात्मक रूप से अधिक है अनसिक्योर्ड लोन की तुलना में कम
लोन राशि उचित लोन राशि अधिक लोन राशि
प्रोसेसिंग फीस कम अधिक
भुगतान अवधि 12 महीने – 5 साल 5 साल – 30 साल
CIBIL स्कोर लोन  संस्थान के द्वारा पूरी तरह से जाँच की जाती है लोन संस्थान द्वारा केवल स्कोर की जाँच की जाती है
स्वीकृति दर कम अधिक
लोन डिसबर्सल 2-4 कार्य दिवसों के भीतर व्यावसायिक आवश्यकताओं पर निर्भर करता है, 7 – 10 कार्य दिवसों से अधिक हो सकता है
प्री-पेमेंट विकल्प आसान कठिन

CLICK

About naveenduhan

Check Also

PFA Full Form in Mail | पीएफए की फुल फॉर्म क्या है?

दोस्तों, अगर आप इन्टरनेट का उपयोग करते हैं तो आप Email के बारे में भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.