VIRUS Full Form in Hindi – वायरस की फुल फॉर्म क्या है?

Virus क्या होता है और Virus की Full Form क्या होती है। ऐसे सवाल आपके मन में भी कभी न कभी आये होंगे। तभी आज आप हमारे ब्लॉग पर आये है।

अगर आप भी यह जानना चाहते है की Virus की Full Form क्या होती है तो आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े। क्योकि इसमें मैं आपको न केवल Virus की Full Form बताऊंगा, बल्कि आपको यह भी बताऊंगा की virus क्या होते है। Virus कितने प्रकार के होते है। Virus कंप्यूटर में कैसे आता है। यह आपके कंप्यूटर को कैसे ख़राब करते है। कंप्यूटर में Virus है या नहीं कैसे पता करे। आप इनसे कैसे बच सकते है। और आप अपने कंप्यूटर या फ़ोन से Virus को कैसे निकाल सकते है।

Virus Ka Full Form :-

Virus का फुल फॉर्म “Vital Information Resources Under Siege” होता हैं, इसका हिंदी उच्चारण ‘विटल इनफॉरमेशन रिसोर्सेस अंडर सीज’ होता है। इसके फुल फॉर्म का हिंदी भाषा में ट्रांसलेट ‘घेराबंदी के तहत महत्वपूर्ण सूचना संसाधन’ होता हैं।

यह आपके कंप्यूटर के जरुरी फाइल्स, हार्ड ड्राइव, ऑपरेटिंग सिस्टम, सॉफ्टवेर को नुक्सान पहुँचा सकता है. कुछ वायरस आपके बिना कुछ किये भी आपके कंप्यूटर में सॉफ्टवेर इनस्टॉल कर देते है. कुछ वायरस आपके डाटा को चुराकर हैकर तक पहुँचाने का भी काम करता है |

वायरस क्या हैं (What is Virus in Hindi)

कंप्यूटर वायरस एक तरह का प्रोग्राम होता है जो हमारे कंप्यूटर में बिना हमारी अनुमति के आकर काम करता है और हमारे सिस्टम को नुकसान पहुंचाता है। कंप्यूटर वायरस की एक खास बात यह होती है कि यह धीरे-धीरे अपने आप ही बढ़ता रहता है और हमारे पूरे कंप्यूटर को यह अपने चपेट में ले लेता है।

कंप्यूटर वायरस हमारे डिवाइस में उपस्थिति जरूरी फाइल, हार्ड डिस्क, विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर तथा ऑपरेटिंग सिस्टम को भी नुकसान पहुंचाता है। कुछ वायरस तो ऐसे होते हैं जो बिना आपके अनुमति के ही आपके सिस्टम में इंस्टॉल हो जाते हैं और आपके जरूरी डेटा को हैकरों तक पहुंचाने का काम करते हैं।

कंप्यूटर वायरस के प्रकार (Types of Computer Virus)

कंप्यूटर वायरस बहुत से प्रकार के होते हैं जिनमें से कुछ मुख्य वायरसों के नाम निम्नलिखित प्रकार से हैं-

  • Boot Sector Viruses
  • Makro Viruses
  • Program Viruses
  • Multipartite Viruses
  • Stealth Viruses
  • Polymorphic Viruses
  • Active X Viruses
  • Resident Viruses
  • File Infected Viruses
  • Browser Hijacker etc

इन सबके अलावा कुछ ऐसे मैलवेयर हैं जो वायरस के रूप में जाने जाते हैं इनके बारे में नीचे निम्न प्रकार से दिए गए हैं-

  • Computer Worms
  • Trojan Horse
  • Spam Virus
  • Zombies
  • Spyware etc.

वायरस का निर्माण इंसान द्वारा ही किया जाता है यह ज्यादातर प्राइवेट जानकारी हासिल करने के लिए, डाटा ख़राब करने के लिए, मजाकिया संदेश कंप्यूटर पर दिखाने के लिए लोग वायरस को प्रयोग में लाते है | कंप्यूटर वायरस के वजह से हर साल करोड़ो रूपए का नुक्सान होता है |

उदहारण के लिए आप ransomware virus देखलो जो आपके कंप्यूटर को लॉक कर देता है और हैकर फिरोती हासिल करने के बाद ही इस वायरस को हटाता है | ज्यादातर वायरस विंडोज सिस्टम के लिए बनाये जाते है | वायरस से बचने के लिए लोग एंटी वायरस अपने कंप्यूटर में इनस्टॉल रखते है जो वायरस को आने से रोकता है |

इन्हें भी पढ़े –

डीएम का फुल फॉर्म क्या होता है |DM का क्या मतलब है?
Event Blogging Kya Hai? Event Blogging Kaise Start Kare?

कंप्यूटर वायरस किस प्रकार से काम करता है –

कंप्यूटर वायरस, एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम होता है जिसे मनुष्य के द्वारा कोडिंग करके तैयार किया जाता है, यह अपनी एक कॉपी बनाने में पूरी तरह से सक्षम होता है। नेटवर्क के द्वारा इनकी copies एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर अटैक करती है तथा इसी प्रकार से यह एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तथा दूसरे कंप्यूटर से तीसरे कंप्यूटर पर फैलती रहती हैं।

कंप्यूटर वायरस भी बायोलॉजिकली वायरस की तरह ही काम करते हैं जिस प्रकार से बायोलॉजिकल वायरस पहले एक मनुष्य के अंदर आता है तथा उस व्यक्ति पर अटैक करके उसके हैल्थी सेल्स को नुकसान पहुंचाते हैं और फिर वह वायरस अपनी copies को किसी दूसरे व्यक्ति के अंदर जो उस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है उसके अंदर भी भेज देता है।

कंप्यूटर वायरस से कैसे बचे:

  1. कभी Crack या Modded Software का इस्तेमाल नही करे हमेशा ऑफिसियल वेबसाइट से ही सॉफ्टवेर डाउनलोड करे |
  2. अपने ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवेर को हमेशा अपडेट रखे |
  3. जिस ईमेल की आपको जानकारी न हो उसके अटैचमेंट पर कभी क्लिक न करे |
  4. जो वेबसाइट आपको किसी Porn/Gambling साईट पर Redirect करे उन वेबसाइट को न खोले |
  5. अपने ब्राउज़र में Pop Up ब्लॉकर चालू रखे |
  6. अपने जरुरी डाटा का हमेशा बैकअप बना कर रखे |
  7. हमेशा स्ट्रोंग पासवर्ड ही इस्तेमाल करे |
  8. अपने कंप्यूटर में किसी अच्छे एंटीवायरस का उपयोग करे |

Conclusion

आज इस आर्टिकल में हमने Viruses से संबंधित बहुत सी प्रकार की जानकारियों को प्राप्त किया एवं मैंने आपको इस पोस्ट में Virus Full Form के साथ वायरस क्या है, वायरस से कैसे बचे, वायरस के प्रकार की भी जानकारी दी।

आशा करता हूं दोस्तों हमारे इस आर्टिकल Viruses Full Form को पढ़कर आपको उस प्रश्न का उत्तर मिल गया होगा जिसके लिए आप हमारे इस ब्लॉग पर आए थे। आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट के द्वारा जरूर बताएं और यदि हमारे इस आर्टिकल से संबंधित आपके मन में कोई प्रश्न है तो कमेंट के द्वारा हमसे जरूर पूछें, धन्यवाद !

About naveenduhan

Check Also

Duniya Ka Sabse Bada Desh Kaun Hai? – जानिए दुनिया का सबसे बड़ा देश कौन सा है।

Desh

Leave a Reply

Your email address will not be published.