E-KYC Scam क्या है और इससे कैसे बचें?- जानिए पूरी जानकारी

भारत के सबसे बड़े दूरसंचार सेवा प्रदाताओं में से एक रिलायंस जियो ने अपने ग्राहकों को ई-केवाईसी धोखाधड़ी (e-KYC Scam) के बारे में सचेत किया है। दूरसंचार ऑपरेटर ने अपने ग्राहकों को साइबर घोटाले/धोखाधड़ी की बढ़ती घटनाओं के प्रति आगाह किया है। रिलायंस जियो ने उस तरीके और तरीके का भी खुलासा किया है जिससे धोखेबाज निर्दोष लोगों को ठग रहे हैं। यहाँ हम उस सबके बारे में यानि ई-केवाईसी स्कैम क्या है और इससे कैसे बचें? में विस्तार से बता रहे हैं।

जियो के अलावा, भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने भी इस साल की शुरुआत में अपने ग्राहकों को ई-केवाईसी धोखाधड़ी के बारे में इसी तरह की चेतावनी जारी की थी। कंपनी ने अपने ग्राहकों को 6 महत्वपूर्ण चीजों के बारे में चेतावनी दी है जो उन्हें नहीं करनी चाहिए और वे खतरनाक क्यों हैं।

Reliance Jio अपने लाखों यूजर्स को e-KYC स्कैम को लेकर अलर्ट कर रहा है। Jio ने कुछ ऐसे टिप्स भी शेयर किए हैं, जिन्हें यूजर्स को इस तरह के स्कैम से सुरक्षित रहने के लिए ध्यान में रखना चाहिए।

ई-केवाईसी स्कैम क्या है? What is E-KYC Scam in Hindi?

आप लोगों ने देखा होगा, बहुत बार आपके फोन पर KYC का मैसेज आता है। मतलब जो भी scammers या ठग है वो मासूम लोगों (जिनको knowledge नहीं है) को KYC verification के नाम पर बेवकूफ बनाते हैं।

स्कैमर्स आमतौर पर यूजर्स से अपना KYC डिटेल्स/आधार नंबर शेयर करने या ऐप डाउनलोड करने या एक अनवेरीफाइड लिंक पर क्लिक करने के लिए कहते हैं। जिसके माध्यमों से, हैकर्स यूजर्स के पर्सनल डेटा जैसे बैंक डिटेल्स, नाम, पता, फोन नंबर का एक्सेस पाने की कोशिश करते हैं।

पिछले कुछ महीनों से देश भर में जालसाजों का एक खास गिरोह सक्रिय है। इसने धोखे का एक नया तरीका ईजाद किया है। बैंक अधिकारी बनकर इन ठगों ने बड़ी संख्या में लोगों को ठगा है। इसके लिए वे एप के जरिए लोगों के मोबाइल फोन की स्क्रीन एक्सेस करते हैं। ये फ्रॉड कॉल करके लोगों से अपने केवाईसी को वेरिफाई करने के लिए कहते हैं। फिर इस कार्य को ऑनलाइन पूरा करने में मदद की पेशकश करते है। इसके बाद उनका बैंक अकाउंट हैक कर लिया जाता है और फिर उनके बैंक कहते से पैसे निकाल लिए जाते हैं।

कैसे की जाती है ठगी?

  1. आपको कॉल आती है कि आपका वॉलेट या बैंक केवाईसी अमान्य है।
  2. कॉल करने वाले का कहना है कि इसे ऑनलाइन वेरिफाई किया जा सकता है ताकि आपका अकाउंट दोबारा एक्टिवेट हो सके।
  3. आपको सुविधा के लिए एक ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा जाता है।
  4. जब आप ऐप का उपयोग करते हैं, तो कॉलर आपके फोन की स्क्रीन देख लेता है।
  5. वह आपसे एक छोटी टोकन राशि को वॉलेट में स्थानांतरित करने के लिए कहता है।
  6. जब आप ऐसा करते हैं, तो यह पासवर्ड और अन्य विवरण देखता है।
  7. वह आपके बैंक खाते से बड़ी रकम निकालने के लिए इन्हीं विवरणों का एक साथ उपयोग करता है।
  8. सभी ट्रांसफर अनुरोधों के लिए ग्राहक के पास ओटीपी आते हैं, लेकिन धोखेबाज उन्हें ऐप के माध्यम से देख लेते हैं।
  9. कुछ ही मिनटों में ठग पूरे बैंक खाते को साफ कर देते हैं।

सावधान! KYC के नाम पर ऐसे चूना लगा रहे हैं ठग, और अब तक लाखों लोगों के साथ ऐसा हो भी चुका है तो नीचे दिए गए security tips पढ़ लें और इन पर अच्छे से अमल करें ताकि आपका bank account secure रहें।

E-KYC Scam से कैसे बचें?

बढ़ते घोटालों को देखते हुए Jio ने कुछ ऐसे टिप्स भी शेयर किए हैं, जिन्हें यूजर्स को इस तरह के स्कैम से सुरक्षित रहने के लिए ध्यान में रखना चाहिए। रिलायंस जियो ने ई-केवाईसी स्कैम से बचने के लिए अपने ग्राहकों को चेतावनियों के साथ कुछ टिप्स भी दिए हैं। कंपनी यूजर्स को इन घोटालों से बचाने के लिए मैसेज अलर्ट भी भेजती रहती है। आइए जानते हैं उन टिप्स के बारे में।

1. ई-केवाईसी सत्यापन के लिए कॉल/संदेशों का जवाब न दें

Jio ने अपने ग्राहकों को वेरिफिकेशन के लिए किसी भी नंबर पर कॉल करने के लिए कहे जाने वाले फर्जी मैसेज का जवाब नहीं देने की चेतावनी दी है। जियो ने यूजर्स को ई-केवाईसी वेरिफिकेशन का अनुरोध करने वाले कॉल और मैसेज का जवाब देने के प्रति आगाह किया है। अगर आपके पास कभी भी ऐसी कॉल आए तो तुरंत उस नंबर को ब्लॉक कर दें।

2. अपना आधार नंबर, ओटीपी या बैंक खाता नंबर न दें

Jio प्रतिनिधि होने का दावा करने वाले किसी भी व्यक्ति को अपना आधार नंबर, ओटीपी या बैंक खाता नंबर न दें। यूजर्स को कभी भी अपने ओटीपी, आधार या बैंक अकाउंट की जानकारी किसी के साथ साझा नहीं करनी चाहिए। कंपनी का कहना है कि जियो के प्रतिनिधि कभी भी इस तरह की जानकारी नहीं मांगते।

3. कॉल करने वालों की बातों पर विश्वास न करें

यदि आपको कोई कॉल/एसएमएस प्राप्त होता है जो आपसे ई-केवाईसी पूरा करने के लिए कहता है अन्यथा आपकी मोबाइल सेवाएं काट दी जाएंगी, ऐसे दावों का जवाब न दें/विश्वास न करें कि वे सच नहीं हैं।

ऑपरेटर उपयोगकर्ताओं को चेतावनी देता है कि वे कॉल करने वालों पर भरोसा न करें जो दावा करते हैं कि उनका कनेक्शन जल्द ही निलंबित कर दिया जाएगा। सक्रिय कनेक्शन से संबंधित सभी विवरण MyJio ऐप से प्राप्त किए जा सकते हैं।

इन्हें भी पढ़े –

डीएम का फुल फॉर्म क्या होता है |DM का क्या मतलब है?
Event Blogging Kya Hai? Event Blogging Kaise Start Kare?

4. कभी भी SMS में दिए गए Link पर क्लिक नया करें

जियो ने अपने ग्राहकों को आगाह किया है कि वे जियो के प्रतिनिधि होने का दिखावा कर जालसाजों द्वारा भेजे गए लिंक, अटैचमेंट पर क्लिक न करें। Jio ने उन्हें इस तरह के अवांछित संचार का जवाब देने के खिलाफ सलाह दी है।

यूजर्स को कभी भी जियो के किसी कथित प्रतिनिधि के मैसेज के जरिए शेयर किए गए असत्यापित लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए। Jio यूजर्स को ऐसे अनचाहे मैसेज का जवाब न देने की सलाह देता है।

5. Third Party अप्प्स डाउनलोड करने से बचें

रिलायंस जियो का कहना है कि वह कभी भी यूजर्स को किसी थर्ड पार्टी एप्लिकेशन को डाउनलोड करने के लिए नहीं कहता है। आधिकारिक Jio ऐप उर्फ MyJio ऐप मोबाइल रिचार्ज से संबंधित सभी प्रकार की सेवाएं प्रदान करता है। केवाईसी अपडेट या किसी अन्य प्रकार के सत्यापन के लिए अपने फोन में कभी भी कोई ऐप डाउनलोड न करें।

Jio ग्राहकों को अपने KYC/आधार विवरण को अपडेट करने के लिए कोई ऐप डाउनलोड नहीं करना चाहिए क्योंकि कंपनी कभी भी अपने ग्राहकों से ऐसी गतिविधियों के लिए कोई थर्ड पार्टी ऐप डाउनलोड करने के लिए नहीं कहती है। ग्राहकों को ऐसे मैसेज और कॉल से सावधान रहना चाहिए। इस प्रकार के संदेश या कॉल से आमतौर पर ग्राहकों को आर्थिक नुकसान होता है।

6. SMS में मिले नंबर पर कॉल बैक न करें

ऑपरेटर ई-केवाईसी को पूरा करने के लिए उपयोगकर्ताओं को एसएमएस में कॉल बैक नंबर कभी नहीं देने की चेतावनी भी देता है। इसने कहा कि “आमतौर पर विवरण साझा करने के लिए एक कॉल बैक नंबर का भी उल्लेख किया जाता है। जब ग्राहक दिए गए नंबर पर कॉल करता है, तो उसे एक थर्ड-पार्टी ऐप इंस्टॉल करने के लिए कहा जाता है, जो धोखेबाजों को ग्राहक के फोन और डिवाइस से जुड़े बैंक खातों तक रिमोट एक्सेस प्राप्त करने की अनुमति देता है।

7. अपने ऑपरेटर को रिपोर्ट करें

अगर आपको इसी नंबर से बार-बार message या call आए तो उसकी अपने operator से रिपोर्ट करें और उस नंबर को block करवाने में मदद करें ताकि वो किसी और के साथ fraud न कर सके।

Conclusion –

“कृपया इस तरह के एसएमएस / कॉल से सावधान रहें क्योंकि इससे वित्तीय नुकसान हो सकता है। रिमोट एक्सेस ऐप डाउनलोड न करें, क्योंकि धोखेबाजों को आपके फोन पर सारी जानकारी मिल जाएगी, ”पत्र में कहा गया है।

About naveenduhan

Leave a Reply

Your email address will not be published.